सर्दियों में स्वस्थ रहने के घरेलू उपाय

अधिकतर लोग गर्मी की अपेक्षा सर्दी के मौसम को बेहद पसंद करते हैं। भीषण गर्मी के बाद सर्दियां ढेर सारी ख़ुशियां लेकर आती हैं। सर्दियों में हमारी पाचन शक्ति अच्छी रहती है, खाया पीया अच्छे से हज़म हो जाता है, भूख भी अच्छी लगती है, दिन छोटे और रातें लम्बी होती है, जिससे आराम करने को पर्याप्त समय मिल जाता है। अन्य मौसमों के तुलना में सर्दी का मौसम सेहत के लिहाज़ से बेहतरीन मौसम माना जाता है। हमें शीत ऋतु में पौष्टिक आहार एवं व्यायाम, योगा आदि के द्वारा पर्याप्त बल एवं शक्ति अर्जित कर लेनी चाहिए, ताकि वर्ष पर्यन्त हम स्वस्थ रह सकें, लेकिन हमारी ज़रा सी भी असावधानी हमें बीमार कर सकती है। तो आइए, आज हम आपको बताते हैं सर्दी के मौसम में स्वस्थ रहने के बढ़िया उपाय –

सर्दियों में स्वस्थ रहने के घरेलू उपाय
Winter Tips in Hindi

गर्म कपड़े पहनकर ही बाहर निकलें

pretty cute girl scarf hat winter ayurvedic winter tips for health in hindi

सर्दियों के मौसम में घर के अंदर और बाहर के तापमान में काफी अंतर होता है। ऐसे में अगर आप बगैर पूर्ण रूप से गर्म कपड़े पहनकर बाहर निकलेंगे तो जुकाम, खांसी, बुखार और निमोनिया होने की भी संभावना बढ़ जाती है। सर्दियों में हमारी खून की नलियां सिकुड़ जाती हैं। इसलिए अगर जरुरी हो तो ही घर से बाहर जाइये और गर्म कपडे पहनकर ही बाहर जाइये। अगर हो सके तो सर्दियों में दो पहिया वाहनों पर बैठकर जाने से बचिए।

ड्राई फ्रूट्स खाएं

dry fruits jar akhrot almond winter tips in hindi

काजू, बादाम, पिस्ता, किशमिश, अखरोट, मूंगफली ये सब पोषक तत्वों से भरपूर हैं। ये ड्राई फ्रूट्स (मेवा) विटामिन, खनिज लवण एवं एंटी ऑक्सीडेंट तत्वों का भंडार हैं। सर्दी के मौसम में इनका सेवन करना सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। और साथ ही दूध, दही या छाछ का नियमित सेवन शरीर के लिए अत्यंत लाभदायक होता है। शीत ऋतु में मक्की की रोटी, बाजरे की रोटी का  घी, मक्खन, गुड के साथ सेवन करना स्वादिष्ट एवं गुणकारी होता है।

पौष्टिक पदार्थों का सेवन करें

सर्दियों में पाचकाग्नि तीव्र होती है और भूखे रहना शरीर के लिए नुकसानदायक होता है। इस दौरान घी, मक्खन, उड़द की दाल, खोये की पिन्नी, गाजर का हलवा, गोंद के लड्डू, तिल के लड्डू, च्यवनप्राश, बादाम पाक, मूंगफली, गुड पपड़ी जैसे बल एवं शक्ति वर्धक पदार्थों का सेवन सीमित मात्रा में करना बेहतर रहता है।

Those who have no time for HEALTHY EATING will sooner or later have to find time for illness. – Edward Stanely

मौसमी फल एवं हरी सब्जियां खाएं

अनार, आंवला, सेब, संतरा, अमरुद जैसे फल एवं गाजर, मूली, पालक, शकरकंद, गोभी, टमाटर, मटर जैसी सब्जियों  में विटामिन, खनिज लवण एवं फाइबर प्रचुर मात्रा में होते हैं, जिससे ये फल एवं सब्जियां हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती हैं। सरसों का साग और बाजरे की खिचड़ी भी शरीर के लाभदायक होती है।

व्यायाम और योग करें

yoga exercise in morning ayurvedic winter tips for health in hindi

शीत ऋतु के दौरान  भारी पदार्थों का  सेवन ज्यादा  किया जाता है तथा रातें लम्बी होने के कारण  शरीर को आराम भी ज्यादा मिलता है। इस वजह से शरीर का वजन बढ़ने की पूरी सम्भावना रहती है, इसलिए व्यायाम, योगा आदि का नियमित रूप से अभ्यास करना चाहिए। सुबह उठ कर  पार्क आदि में घूमने जायें, तेज क़दमों से चलें  या दौड़ लगायें। इन उपायों से शरीर से पसीने  के रूप में हानिकारक तत्व बाहर निकल जाते है, जिससे शरीर का रक्त संचार बढ़ता है, तन मन स्वस्थ रहता है और जरुरत से ज्यादा  वजन भी नही बढ़ पाता  एवं शरीर की अंदरुनी  शक्ति का विकास होता है। सुबह उठकर मैडिटेशन करना भी शरीर के लिए लाभदायक है। यहां पढ़िए – Meditation कैसे करें

ज़्यादा देर तक न सोयें

child baby sleep ayurvedic winter tips in hindi wallpapers

सर्दियों के मौसम में दिन छोटे और रातें लंबी होती हैं। यही कारण है कि आमतौर पर अधिकतर लोग जल्दी सो जाते हैं और सुबह देर से उठते हैं। सर्दियों में बाहर की ठंडक के मुकाबले घर में कंबल या रजाई की गरमाहट बिस्तर से बाहर नहीं निकलने देती। ज्यादा सोने से हेल्थ प्रॉब्लम्स होने लगती हैं।

तेल से मालिश करें

सुबह भ्रमण  से आने के बाद हो  सके तो  कुछ देर  सूर्य की धूप  में बैठ कर सरसों, बादाम, नारियल आदि के  तेल से मालिश करें। सूरज की किरणों से  विटामिन डी मिलता है जो की हड्डियों  की मजबूती एवं ताकत  के लिए बहुत  जरुरी होता है। मालिश से स्वास्थ्य सुधरता  है, त्वचा की कान्ति  निखरती  है। शीत ऋतु में वातावरण में रुक्षता होती  है जिससे त्वचा एवं होंठ  आदि फटने लगते है, त्वचा रूखी हो जाती है। मालिश करने से त्वचा में चिकनापन आता है, मांसपेशियां मजबूत होती हैं, शरीर में खून का दौरा सुचारू रूप से चलता है, शरीर सुन्दर एवं सुगठित हो जाता है। इसलिए प्रतिदिन मालिश जरुर करें।

Health is like MONEY, we never have a true idea of its value until we LOSE IT. – Josh Billings

ज्यादा पानी पीयें

सर्दियों में अपने शरीर को अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रखने के लिए पानी पीना बेहद जरुरी है। हालांकि गर्मियों की तुलना में सर्दियों में प्यास ही कम लगती है और हम पानी पीने में आलस्य करते हैं, जिससे शरीर में पानी  की कमी हो जाती है, त्वचा फटने लगती है, कमजोरी आ सकती है, इसलिए दिन भर में 7 से 8 गिलास पानी अवश्य पीयें। सर्दी में चाहें तो पानी गुनगुना करके पी सकते हैं। मोटापा कम  करने के लिए सुबह उठकर खाली पेट एक गिलास गुनगुने पानी में एक नींबू का रस एवं एक चम्मच शहद  डाल कर पीयें।

अधिक चाय या कॉफी न लें

coffee green tea what to do when you get up early in morning kya krna chahiye jab subah jaldi uthe in hindi

सर्दियों में लोग पानी पीने की बजाय चाय या कॉफी ज़्यादा पीते हैं जो कि सेहत को फायदा पहुंचाने की अपेक्षा नुकसान करता है। ज़्यादा चाय या कॉफी पीने से बॉडी में कैफीन और शुगर की मात्रा ज़रूरत से ज़्यादा हो जाती है और जो बाद में बीमारियों का कारण बनती है। ज़्यादा चाय और कॉफी के बजाय गर्म दूध, ग्रीन टी या फिर गुनगुना पानी पिएं। हो सके तो चाय या कॉफी को कम मात्रा में ही लें।

इन टिप्स को अपनाकर आप सर्दियों को स्वस्थ रहकर बिता सकेंगे। हमारे इन टिप्स को सोशल नेटवर्क जैसे कि facebook और twitter पर इस लेख को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ शेयर कीजिए ताकि वे भी लाभांवित हो सकें। धन्यवाद्!

अन्य लेख पढें:

दोस्तों, हमें comments के माध्यम से जरुर बताएं कि आपको हमारा यह लेख कैसा लगा। अगर आपके पास भी Hindi में कोई अच्छा article या Inspirational कहानी है जो कि आप लोगों के साथ share करना चाहते हैं तो आप हमें email कर सकते हैं। Email – hinglishtalk@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.