Bitcoin क्या है? जानिए संसार की इस साइबर करेंसी के बारे में

बिटकॉइन (Bitcoin) क्या है?

Bitcoin एक नई इनोवेटिव डिजीटल वर्चुअल करंसी यानि आभासी मुद्रा है। यह एक भुगतान प्रणाली की मुद्रा है। जिसका आविष्कार सतोषी नाकामोतो (Satoshi Nakamoto) नामक एक सॉफ्टवेयर डेवलपर ने वर्ष 2008 में किया था और वर्ष 2009 में इसे open-source software के रूप में जरी किया था।

कम्प्यूटर नेटवर्कों के जरिए इस मुद्रा से बिना किसी मध्‍यस्‍था के लेन-देन किया जा सकता है। इस डिजिटल करंसी को डिजिटल वॉलेट में भी रखा जा सकता है। बिटकॉइन को क्रिप्टोकरेंसी भी कहा जाता है। जबकि जटिल कम्‍प्‍यूटर एल्गोरिथम्स और कम्‍प्‍यूटर पावर से इस डिजिटल मुद्रा का निर्माण किया जाता है जिसे माइनिंग कहते हैं।

bitcoin is a digital cryptocurrency virtual currency invented by satoshi nakomoto in 2008 2009

जिस तरह से रुपए, डॉलर और यूरो आदि मुद्राएं खरीदी जाती हैं उसी तरह से बिटकॉइन की भी खरीद होती है। ऑनलाइन भुगतान के अलावा इसको पारम्परिक मुद्राओं में भी बदला जा सकता है। बिटकॉइन की खरीद-बिक्री के लिए एक्सचेंज भी हैं, परंतु उनका कोई औपचारिक रूप नहीं है।

गोल्‍डमैन साक्‍स और न्‍यूयॉर्क स्‍टॉक एक्‍सचेंज ने Bitcoin को बेहद तेज और कुशल तकनीक कहकर इसकी प्रशंसा भी की है। इसलिए दुनियाभर के बिजनेसमैन और कई बड़ी कंपनियां फाइनैंशियल ट्रांजेक्‍शन के लिए इसका इस्‍तेमाल खूब कर रही हैं। बिटकॉइन की लोकप्रियता तेजी से बढ़ रही है।

Decentralized डिजिटल करेंसी

बिटकॉइन का संचालन कम्‍प्‍यूटरों के डिसेंट्रलाइज्‍ड नेटवर्क से किया जाता है, जहां पर ट्रांजेक्‍शन करने वालों की व्‍यक्तिग‍त जानकारियों की जरूरत नहीं होती है। जबकि क्रेडिट कार्ड या बैंक ट्रांजेक्‍शन के विपरीत इससे होने वाले ट्रांजेक्‍शन इररीवर्सिवल होते हैं यानी इसे वापस नहीं लिया जा सकता है। कहने का तात्पर्य है कि‍ यह one way traffic होता है। डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड व बैंक ट्रांसफर आदि में पैसे जहां भेजे जाते हैं, उनका सरलता से पता लगाया जा सकता है, परंतु इसमें ऐसा संभव नहीं है। क्‍योंकि इसमें ट्रांजेक्‍शन करने वालों की व्‍यक्तिगत जानकारियां यहां नहीं होती हैं।

बिटकॉइन का फ़ायदा

बिटकॉइन का सबसे ज्यादा फ़ायदा स्‍टार्ट-अप्‍स इंडस्‍ट्री को मिल रहा है। ये कंपनियां गोल्‍डमैन साक्‍स, न्‍यूयॉर्क स्‍टॉक एकसचेंज जैसे बड़े संस्‍थानों व कंपनियों से खूब निवेश ले रही हैं। यह सबसे तेज और कुशल होने के अलावा इसकी ट्रांजेक्‍शन शुल्क भी अन्‍य इंस्‍टूमेंट्स से कम है। डिजिटल करंसी बिटकॉइन का इस्तेमाल करने वाले बिजनेसमैन की संख्‍या लगभग 30 लाख बताई जा रही है और जूपिटर रिसर्च के अनुसार यह 2019 तक 50 लाख तक पहुंच सकती है।

तेज और सुरक्षित माध्यम

बिटकॉइन बिजनेसमैन के लिए तेज, सस्ता और सुरक्षित जरिया है। यह कहना गलत नहीं होगा कि यह क्रेडिट कार्ड से ज्यादा सुरक्षित है, क्योंकि जहां फ्रॉड की घटनाएं अधिक होती हैं। यदि आप ऑनलाइन कारोबार चला रहे हैं तो Bitcoin के माध्यम से इस फ्रॉड से बच सकते हैं। और साथ ही पैसे बचाने के अलावा नए ग्राहकों तक भी पहुंच सकते हैं। उपभोक्‍ताओं के लिए कई ऐसी ऑनलाइन और ऑफलाइन शॉपस हैं जहां वे बिटकॉइन से खरीदारी कर सकते हैं।

कानूनी दायरे से बाहर

इस वर्चुअल करंसी को किसी भी केंद्रीय बैंक का समर्थन नहीं है। बिटकॉइन किसी भी कानूनी दायरे में नहीं आता है और एक सामूहिक नेटवर्क पर होने वाले लेन-देन किसी भी क्लियरिंग एजेंसी से होकर नहीं गुजरते हैं। इसमें होने वाली गड़बड़ी की जिम्‍मेदारी किसी की भी नहीं होती है, क्‍योंकि इसके लिए कोई कंट्रोलिंग एजेंसी नहीं है। इसके माध्यम से पैसा एक जगह से दूसरी जगह तक पहुंचाने के बदले में मामूली फीस ही ली जाती है जो कि क्रेडिट कार्ड की तुलना में बहुत ही कम होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.