मछुआरा और मंत्री The King and the Fisherman Story

मछुआरा और मंत्री
The King and the Fisherman
Moral Story for Kids

एक बार एक राजा था। उसे रोज तुरंत पकड़ी गई मछलियां खाने का शौक था। एक दिन समुद्र में भयंकर तूफान आया। कोई भी मछुआरा समुद्र में मछली पकड़ने नहीं गया था। इसलिए राजा को तुरंत पकड़ी हुई मछली खाने को नहीं मिल सकी। राजा ने घोषणा करा दी कि उस दिन जो भी तुरंत पकड़ी हुई मछली राजा के पास लाएगा, उसे भरपूर ईनाम दिया जाएगा।

The King and the Fisherman Story Clever Fisherman Moral Story for Kids
The King and the Fisherman Hindi Moral Story for Kids

एक गरीब मछुआरे ने यह घोषणा सुनी तो वह अपनी जान जोखिम में डालकर समुद्र से मछलियां पकड़कर जब राजमहल पहुंचा तो राजमहल के पहरेदारों ने उसे द्वार पर ही रोक दिया। वे उस मछुआरे को राजा के मंत्री के पास ले गए।

मंत्री ने मछुआरे से कहा, “मैं तुम्हें राजा के पास जरूर जाने दूंगा, पर तुम्हें राजा से जो ईनाम मिलेगा। उस में से आधा हिस्सा मेरा होगा।”

मछुआरे को मंत्री का यह प्रस्ताव पसंद नही आया। फिर भी उसने अपना मन मारकर उसे स्वीकार कर लिया।

इसके बाद पहरेदार उसे लेकर राजा के पास गए। मछुआरे ने राजा को मछलियां दी। राजा मछुआरे पर बहुत प्रसन्न हुआ और मछुआरे से कहा- बताओ तुम्हें क्या ईनाम चाहिए। तुम जो भी मांगोगे, वह मैं तुम्हें अवश्य दूंगा।

मछुआरे ने कहा, “महाराज! मैं चाहता हूं कि मेरी पीठ पर पचास कोड़े लगाए जाएं। बस मुझे यही इनाम चाहिए।”

मछुआरे की यह बात सुनकर सभी दरबारी चकित रह गए। राजा ने मछुआरे की पीठ पर पचास हल्के कोड़े लगाने का आदेश दिया।

जब नौकर मछुआरे की पीठ पर पच्चीस कोड़े लगा चुका तो मछुआरे ने कहा, “रूको! अब बाकी के पच्चीस कोड़े मेरे हिस्सेदार की पीठ पर लगाओ।”

राजा ने मछुआरे से कहा, “तुम्हारा हिस्सेदार कौन है?”

मछुआरे ने कहा, “महाराज! आपके मंत्री महोदय ही मेरे हिस्सेदार हैं।”

मछुआरे का जवाब सुनकर राजा गुस्से से तमतमा उठा। उसने मंत्री को अपने सामने हाजिर करने का आदेश दिया।

मंत्री के सामने आते ही राजा ने नौकर को आदेश दिया कि इन्हें गिनकर पच्चीस कोड़े लगाओ और  ध्यान रहे कि इनकी पीठ पर कोड़े जोर जोर से लगने चाहिए।

इसके बाद राजा ने बेईमान मंत्री को जेल मे डाल दिया। फिर राजा ने मछुआरे को मूंहमांगा ईनाम दिया।

शिक्षा – इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि जैसी करनी वैसी भरनी।

यहां देखें प्रेरणादायक कहानियों का संग्रह

उम्मीद करता हूं कि यह कहानी आपको बेहद पसंद आई होगी। हमें comments के माध्यम से जरुर बताएं कि आपको यह कहानी कितनी पसंद आई। और हां, इस कहानी को अपने मित्रों व रिश्तेदारों के साथ share करना मत भूलें। धन्यवाद! 🙂

अगर आपके पास भी कोई ऐसी ही प्रेरणादायक कहानी या कोई अन्य लेख है, जो कि आप लोगों के साथ share करना चाहते हैं। तो हमें वह लेख अपने नाम और फोटो सहित ईमेल कर सकते हैं। हम आपका भेजा हुआ लेख इस वेबसाइट पर आपके नाम और फोटो सहित प्रकाशित करेंगें। हमारी email id है – hinglishtalk@gmail.com

Tags – Hindi Story, Story of the King and the Fisherman, Motivational Stories in Hindi, Inspiring Short Stories, Life Changing Stories, Moral Stories, Short Stories in Hindi, Stories for Students, Hindi Kahaniyan with Moral, Hindi Kahaniyan for Kids

Leave a Reply

Your email address will not be published.