तेनालीराम के पाप की कीमत Hindi Story of Tenali Raman

Tenali Raman Ke Paap Ki Keemat Hindi Story of Tenali Raman
Tenali Raman Ke Paap Ki Keemat – Hindi Story of Tenali Raman

तेनालीराम के पाप की कीमत
Hindi Story of Tenali Raman

एक दिन तेनालीराम ने एक कुत्ते की दुम को मोड़ कर सीधा कर दिया। लेकिन जल्दी ही वह बेचारा कमजोरी की वजह से एक दो दिन में ही मर गया। उसके बाद अचानक तेनालीराम को जोरों का बुखार आ गया।

एक पंडित ने घोषणा कर दी कि तेनालीराम को पाप का प्रायश्चित्त करना पड़ेगा, नहीं तो उसे इस रोग से कभी छुटकारा नहीं मिल पाएगा।

तेनालीराम ने पंडित से प्रायश्चित के लिए पुजा में आने वाले खर्च के बारे मे पूछा। तो पंडित जी ने उन्हें सौ स्वर्ण मुद्राओं का खर्च बताया।

तेनालीराम ने पंडित से पूछा, “पंडित जी, मैं इतनी स्वर्ण मुद्राएं कहां से लाऊंगा?”

पंडित ने कहा, “तुम्हारे पास जो घोडा है उसे बेचने से जो धन मिले, वह तुम मुझे दे देना।”

तेनालीराम ने शर्त स्वीकार कर ली। पंडित जी ने पूजा-पाठ कर तेनालीराम के ठीक होने की प्रार्थना की। कुछ दिनों में तेनालीराम स्वस्थ हो गए।

वे जानते थे कि प्रार्थना के असर से ठीक नहीं हुए हैं, बल्कि दवा के असर से ही ठीक हुए हैं। तेनालीराम पंडित जी को साथ लेकर बाजार गए। उनके एक हाथ मे घोड़े की लगाम और दूसरे हाथ में एक टोकरी थी।

उन्होंने बाजार मे जाकर घोड़े की कीमत एक आना बताई और कहा, “जो भी इस घोड़े को खरीदना चाहता है, उसे यह टोकरी भी लेनी पड़ेगी, जिसका मूल्य है एक सौ स्वर्ण मुद्राएं।”

इस कीमत पर वे दोनों चीजें एक आदमी ने झट से खरीद ली।

तेनालीराम ने पंडित जी की हथेली पर एक आना रख दिया, जो उसे घोड़े की कीमत के रूप मे मिला था। एक सौ स्वर्ण मुद्राएं उन्होंने अपनी जेब मे डाल ली और चलते बने।

पंडित जी कभी हथेली पर पड़े सिक्के को, तो कभी जाते हुए तेनालीराम को देख रहे थे।

ऐसे ही अन्य लेख पढ़ने के लिए क्लिक करें

अगर आपके पास भी Hindi में कोई प्रेरणादायक story या अच्छा सा article है जो कि आप लोगों के साथ सांझा करना चाहते हैं तो आप हमें ईमेल कर सकते हैं और हम आपके द्वारा भेजा हुआ लेख आपके नाम सहित publish करेंगे। Email – hinglishtalk@gmail.com

और हां, आपको यह प्रेरक प्रसंग कैसा लगा, हमें comments के माध्यम से जरुर बताएं और अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के साथ share करना ना भूलें। धन्यवाद्!

Leave a Reply

Your email address will not be published.