Rishikesh – आस्था, योग और एडवेंचर का अनोखा संगम

Rishikesh में ले आस्था और एडवेंचर का भरपूर आनंद , River Rafting, Cliff Jumping, Bungy Jumping कर देगी आपको रोमांच से आनंदित : आज कल गर्मी की छुट्टियों में लोगो ने गर्मी से बचने के लिए अलग अलग जगहों पर जाने की प्लानिंग कर ली है। वैसे हमारे भारतवर्ष में भी घुमने के लिए खूबसूरत जगहों की कोई कमी नहीं है। ऐसी ही एक जगह है Rishikesh. Himalaya की तलहटी में बसा शहर ऋषिकेश, प्रकृति प्रेमियों के लिए किसी स्वर्ग से कम नही है। यह देश के प्रमुख तीर्थ स्थलों में गिना जाता है। यहाँ नेचरल ब्यूटी के साथ साथ आस्था और एडवेंचर का भी संगम देखने को मिलता है।

Maa Ganga Aarti in Rishikesh
Maa Ganga Aarti in Rishikesh

Haridwar से महज 20 किमी की दुरी पर बसा ये शहर बहुत सी एडवेंचरस एक्टिविटीज के लिए भी famous है। जो भी पर्यटक हरिद्वार आते है वो कभी भी ऋषिकेश घुमे बिना नहीं जाते। क्युकि यहाँ के ऊँचे हरे भरे पहाड़, पहाड़ो से निकलने वाली पवित्र गंगा, गंगा का कलकल करता पानी, त्रिवेणी में संगम, राम झुला, लक्ष्मण झुला , रोमांच से भरपूर River Rafting हर पर्यटक को अपनी और आकर्षित करती है।

क्या खासियत है ऋषिकेश की

ऋषिकेश वैसे धार्मिक महत्व के लिए प्रसिद्ध है। लेकिन आज कल यह धार्मिक महत्व के साथ साथ बहुत सी Adventurous Sports activities के लिए फेमस हो रहा है। यहाँ का सुहावना मौसम , गंगा का कलकल बहता जल , गंगा मईया के पवित्र शीतल जल में डुबकी, गंगा किनारे कैम्पिंग, बंजी जम्पिंग, रिवर राफ्टिंग और बहुत सी मस्ती। ये है ऋषिकेश की खासियत।

We Love Rishikesh Wallpaper
We Love Rishikesh Wallpaper

और सबसे खास बात तो ये है कि ऋषिकेश को आप बेहद कम पैसो में Explore कर सकते है।

ऋषिकेश आस्था और एडवेंचर का संगम

अगर आप अध्यात्मिक शान्ति चाहते है तो इन स्थानों पर जा सकते है –

लक्ष्मण झुला / Lakshman Jhula

Rishikesh, Confluence of faith and adventure
लक्ष्मण झुला / Lakshman Jhula

यह ऋषिकेश से 5 किमी दूर स्थित है। ऐसा माना जाता है कि लक्ष्मण जी ने गंगा नदी को पार करने के लिए जूट की रस्सी से यह झुला बनाया था। यह इसके बाद 1939 में इसका मुख्य निर्माण किया गया। पुलनुमा झुला गंगा नदी के दोनों किनारों को जोड़ता है। इसे शिवानन्द झुला भी कहा जाता है।

राम झुला / Ram Jhula

Rishikesh, Confluence of faith and adventure
राम झुला / Ram Jhula

Ram Jhula लक्ष्मण झूला के नज़दीक स्थित है। Shivanand Aashram के सामने एक झूलेनुमा पुल बना हुआ है जिसे राम झूले के नाम से जाना जाता हैं। स्वर्गाश्रम क्षेत्र में जाने हेतु राम झूला गंगा के उस पार से इस पार ले जाने का रास्ता है। राम झूला भार भी झेल सकता है। दुपहिया वाहन इसके ऊपर से अक्सर निकलते देखे जा सकते हैं। जब आप राम झूले (पुल) के उपर चलोगे तो आपको यह झूलता हुआ प्रतीत होगा

नीलकंठ महादेव मंदिर / Neelkanth Mahadev Mandir

Rishikesh, Confluence of faith and adventure
नीलकंठ महादेव मंदिर / Neelkanth Mahadev Mandir

नीलकंठ भगवान् शिवजी का 300 वर्ष पुराना फेमस मंदिर है। यह मंदिर लक्ष्मण झूले से 19 किमी दूर है। नीलकंठ महादेव मंदिर के दर्शन किए बिना ऋषिकेश यात्रा अधूरी मानी जाती है। पौराणिक कथा के अनुसार इसी जगह पर भगवान शिव जी ने समुन्द्र मंथन से निकले विष का पान किया और नीलकंठ कहलाये। जिसकी वजह से इस मंदिर का नाम नीलकंठ महादेव मंदिर पढ़ा।

त्रिवेणी घाट / Triveni Ghaat

Rishikesh, Confluence of faith and adventure
त्रिवेणी घाट / Triveni Ghaat

यह घाट गंगा, यमुना और सरस्वती नदी का संगम स्थल है। तीनो नदियों के इस संगम स्थल पर स्नान का यहाँ बहुत महत्व है। श्रद्धालु यहाँ स्नान करके संध्या की गंगा आरती में शामिल होते है।

भरत मंदिर / Bharat Mandir

Rishikesh, Confluence of faith and adventure
भरत मंदिर / Bharat Mandir

यह प्राचीन मंदिर भगवान श्री राम जी के भाई भारत को समर्पित है। इसका निर्माण आदि गुरु शंकराचार्य जी ने 12वीं सदी में करवाया था। मंदिर के अंदरूनी गर्भगृह में भगवान विष्णु जी  की प्रतिमा एकल शालिग्राम पत्थर पर उकेरी गयी है। मंदिर का वास्तविक रूप 1398 में तैमुर आक्रमण के दौरान क्षतिग्रस्त हो गया था।

परमार्थ निकेतन / Parmarth Niketan

Rishikesh, Confluence of faith and adventure
परमार्थ निकेतन / Parmarth Niketan

यह एक आश्रम है जिसे स्वामी सुखदेवानंदजी महाराज ने सन् 1942 में स्थापित किया था। यहाँ पर संस्कृत के माध्यम से विधार्थियों को शिक्षा दी जाती है। आश्रम में प्रतिदिन सुबह की सामूहिक पूजा, योग एवं ध्यान, सत्संग, व्याख्यान, कीर्तन, सूर्यास्त के समय गंगा-आरती आदि होते हैं। इसके अलावा प्राकृतिक चिकित्सा, आयुर्वेद चिकित्सा एवं आयुर्वेद प्रशिक्षण आदि भी दिए जाते हैं।

कैलाश निकेतन मंदिर / Kailash Niketan Mandir

Rishikesh, Confluence of faith and adventure
कैलाश निकेतन मंदिर / Kailash Niketan Mandir

लक्ष्मण झुला पार करते ही Kailash Niketan Mandir है। 12 खंडो में बना यह मंदिर ऋषिकेश के अन्य मंदिरों से भिन्न है। इस मंदिर में सभी देवी देवताओ की मूर्तियाँ स्थापित है।

स्वर्ग आश्रम / Swarg Aashram

Rishikesh, Confluence of faith and adventure
स्वर्ग आश्रम / Swarg Aashram

प्राचीन आश्रम स्वामी विशुद्धानन्द द्वारा स्थापित करवाया गया था। स्वामी जी “काली कमली वाले” के नाम से भी जाने जाते थे। इसी स्थान पर बहुत से सुंदर मंदिर बने हुए है। यहाँ पर अनेक Vegetarian Restaurants है जहाँ पर आप शाकाहारी भोजन का आनंद उठा सकते है।

गीता भवन / Geeta Bhavan

Rishikesh, Confluence of faith and adventure
गीता भवन / Geeta Bhavan

1950 में गीता भवन का निर्माण करवाया गया इस स्थान के आकर्षण का केंद्र यहाँ की दीवारे है। जिन पर रामायण और महाभारत के चित्र बने हुए है। गीता भवन में सेंकडो कमरे बने हुए है। जहाँ आप निशुल्क ठहर सकते है। महीनों रहने वाले लोग चाहें तो अपना खाना पकाने की व्यवस्था ख़ुद सकते हैं।

Rishikesh में रोमांच का मजा लेना चाहते है तो –

रिवर राफ्टिंग / River Rafting

Rishikesh, Confluence of faith and adventure
रिवर राफ्टिंग / River Rafting

ऋषिकेश अगर जा रहे है तो राफ्टिंग का आनंद लेना ना भूले गंगा की ऊँची लहरों के साथ हिचकोले खाते हुए राफ्टिंग का अनुभव कभी ना भूलने वाला है। River Raafting के लिए Rishikesh बहुत फेमस है। Rishikesh में रिवर राफ्टिंग आपके रोमांच को चरम सीमा पर पहुंचा देगी। River Raafting के लिए पहले से ही Online या Offline Booking करना न भूले।

यहां आपको 34, 24, 16, 12 और 9 किलोमीटर की राफ्टिंग करने का ऑप्शन मिलता है इसलिए आप अपने समय के हिसाब से Choose कर सकते हैं।

ध्यान रखे कि जून से सितम्बर तक यहाँ बारिश का मौसम होता है इस मौसम में राफ्टिंग नहीं होती

रॉक क्लाइम्बिंग / Rock Climbing

Rishikesh, Confluence of faith and adventure
रॉक क्लाइम्बिंग / Rock Climbing

शायद आप पहले भी कही और इस एडवेंचर का मजा ले चुके हो लेकिन ऊँची चट्टानों पर चढ़ने का मजा हर बार नए उत्साह और रोमांच से भर देता है।

क्लिफ जम्पिंग / Cliff Jumping

Rishikesh, Confluence of faith and adventure
क्लिफ जम्पिंग / Cliff Jumping

बहती गंगा नदी का बफीर्ला ठंडा पानी छूने की कल्पना से ही कंपकंपी छूटने लगती है। अगर 30 फीट की ऊंचाई से इस पानी में कूदने का मौका मिले, तो यह थ्रिलिंग एक्सपीरियंस शायद ही कोई Adventure Lover छोड़ना चाहेगा।

बंजी जम्पिंग / Bungy Jumping

Rishikesh, Confluence of faith and adventure
बंजी जम्पिंग / Bungy Jumping

Bungy Jumping आपको हवा में सुरक्षित उड़ने का मौका देती है। माना जाता है कि ऋषिकेश में देश की सबसे ऊँची बंजी जम्पिंग करवाई जाती है। पैरों को रबड़ की रस्सी से बांध कर नीचे कूदा दिया जाता है। रस्सी नीचे जाने पर खिंचती है और फिर सिकुड़ती है। जिससे नीचे गया व्यक्ति एक बार फिर ऊपर की ओर आता है। हालांकि अगर आपका वजन 35 किलो से कम है या फिर 120 किलो से ज्यादा है, तो यह आपकी बंजी जंपिंग के आड़े आ सकता है।

कैम्पिंग / Camping

Rishikesh, Confluence of faith and adventure
कैम्पिंग / Camping

अगर आप अपने शहर के शोर-शराबे और काम की टेंशन से तंग आ चुके हैं तो ऋषिकेश में कैंपिंग का आनंद ले सकते हैं। इन कैंप्स में आपको ब्रेकफास्ट से लेकर डिनर तक की सभी सुविधाएं दी जाती हैं।  अगर आप कैंपिंग के लिए ऋषिकेश का जाने का प्लैन बना रहे हैं, तो पहले से बुकिंग जरूर करवा लें।

Rishikesh कैसे पहुंचे?How to reach Rishikesh?

वायुमार्ग से – Rishikesh से 18 किमी. की दूरी पर देहरादून के निकट जौली ग्रांट एयरपोर्ट यहां का सबसे नजदीकी एयरपोर्ट है। कई Airlines Companies की फ्लाइट इसे दिल्ली से जोड़ती हैं।

सड़क मार्ग से – दिल्ली में Kashmiri Gate Bus Stand से आपको आसानी से डीलक्स, रोडवेज की या प्राइवेट बसें मिल जाएंगी। ये बसें नियमित रूप से उतराखंड के अनेक शहरो के लिए चलती हैं।

रेलमार्ग से – ऋषिकेश में ही रेलवे स्टेशन है  जो देश के तमाम बड़े रेलवे स्टेशनों से जुड़ा है।

PARAS SINGLA

Paras Singla, a passionate blogger based in Kalanwali. He loves to read and write motivational, health related blogs. He is not perfect in any field because there is always some scope of improvement.

Leave a Reply

Your email address will not be published.