एक हाथ से ताली नहीं बज सकती – गौतम बुद्ध से जुड़ा प्रेरक प्रसंग

Mahatama Buddha and Characterless Woman Story in Hindi
Mahatama Buddha and Characterless Woman Story in Hindi

Mahatama Buddha and Characterless Woman Story in Hindi
एक हाथ से ताली नहीं बज सकती

सन्यास लेने के पश्चात् गौतम बुद्ध एक बार एक गांव पहुंचे। वहां एक स्त्री उनके पास आई और उनसे बोली, “आप तो बिल्कुल किसी राजकुमार की तरह लगते हैं। क्या मैं जान सकती हूं कि इस युवावस्था में आपके गेरुआ वस्त्र धारण करने का क्या कारण है?”

बुद्ध ने उस स्त्री को विनम्रतापूर्वक उत्तर दिया, “मैंने तीन प्रश्नों का हल ढूंढने के लिए सन्यास लिया है। यह शरीर जो युवा व आकर्षक है जल्दी ही वृद्ध होगा, फिर बीमार होगा और अंत में मृत्यु अवस्था में चला जाएगा। मुझे वृद्धावस्था, बीमारी एवं मृत्यु के कारण का ज्ञान प्राप्त करना है।”

उनकी बातों से प्रभावित होकर उस स्त्री ने उन्हें भोजन के लिए अपने घर आमंत्रित किया मगर उस स्त्री को गांव वाले पसंद नहीं करते थे। शीघ्र ही यह बात पूरे गांव में फैल गई कि महात्मा बुद्ध उस स्त्री के घर भोजन करने जाने वाले हैं।

गांव के लोग उनके पास आए और आग्रह किया कि वह उस स्त्री के घर भोजन करने न जाएं। कारण पूछने पर उन्होंने बताया कि वह स्त्री चरित्रहीन है।

बुद्ध ने गांव के मुखिया से पूछा, “क्या आप भी मानते हैं कि वह स्त्री चरित्रहीन है?”

मुखिया ने कहा, “मैं शपथपूर्वक कहता हूं कि वह स्त्री बुरे चरित्र वाली है। कृप्या आप उसके घर न जाएं।”

बुद्ध ने मुखिया का एक हाथ पकड़ लिया और फिर उसे ताली बजाने को कहा। मुखिया ने कहा, “मैं एक हाथ से ताली नहीं बजा सकता। मेरा दूसरा हाथ तो आपने पकड़ रखा है। ऐसे में एक हाथ से ताली कैसे बजाऊं?”

इस पर महात्मा बुद्ध बोले, “जैसे एक हाथ से आप ताली नहीं बजा सकते, वैसे ही एक स्त्री अकेले चरित्रहीन नहीं हो सकती, जब तक इस गांव के पुरुष भी चरित्रहीन न हों। अगर गांव के सभी पुरुष अच्छे होते तो वह स्त्री कदापि ऐसी नहीं होती। उसके ऐसे चरित्र के लिए यहां के पुरुष भी जिम्मेदार हैं।”

यह सुनकर मुखिया और गांव के लोग लज्जित हो गए।

ऐसे ही अन्य लेख पढ़ने के लिए क्लिक करें

अगर आपके पास भी Hindi में कोई प्रेरणादायक story या अच्छा सा article है जो कि आप लोगों के साथ सांझा करना चाहते हैं तो आप हमें ईमेल कर सकते हैं और हम आपके द्वारा भेजा हुआ लेख आपके नाम सहित publish करेंगे। Email – hinglishtalk@gmail.com

और हां, आपको यह प्रेरक प्रसंग कैसा लगा, हमें comments के माध्यम से जरुर बताएं और अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के साथ share करना ना भूलें। धन्यवाद्!

Tags – Mahatama Buddha and Characterless Woman Story in Hindi, Mahatama Buddha Prerak Prasang, Buddha Stories in Hindi, Gautam Buddha Story, Gautam Buddha Stories in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.