कहां छुपी हैं शक्तियां?

कहां छुपी हैं शक्तियां?

kahan chhupi hain shaktiyaan where are the powers human powers supernatural motivational inspirational hindi storyएक बार देवताओं में चर्चा हो रही थी। चर्चा का विषय था कि मनुष्य की हर मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाली रहस्यमयी चमत्कारी शक्तियों को कहां छुपाया जाए। सभी देवताओं में इस विषय पर बहुत वाद-विवाद हुआ।

एक देवता ने अपना मत रखा और कहा कि इन रहस्यमयी चमत्कारी शक्तियों को हम एक जंगल की गुफा में रख देते हैं। तो दुसरे देवता ने उसे टोकते हुए कहा कि नहीं-नहीं हम इन शक्तियों को पर्वत की चोटी पर छिपा देंगे।

उस देवता की बात अभी पूरी भी नहीं हुई थी कि अन्य देवता कहने लगा, “न तो हम इसे कहीं गुफा में छिपाएंगे और न ही इसे किसी पर्वत की चोटी पर। हम इन शक्तियों को समुद्र की गहराईयों में छिपा देते हैं। यही स्थान इसके लिए सबसे अधिक उपयुक्त रहेगा।”

सबकी राय खत्म हो जाने के बाद एक बुद्धिमान देवता ने कहा, क्यों न हम मानव की रहस्यमयी चमत्कारी शक्तियों को मानव मन की गहराईयों में छिपा दें। चूंकि बचपन से ही मनुष्य का मन इधर-उधर दौड़ता रहता है।

मनुष्य कभी कल्पना भी नहीं कर सकेगा कि ऐसी अद्भुत और विलक्षण शक्तियां उसके भीतर छिपी हो सकती हैं। और वह इन्हें बाहरी जगत में खोजता रहेगा। अत: इन बहुमूल्य शक्तियों को हम उसके मन की निचली तह में छिपा देंगे।

The sun shines not on us but in us. ― John Muir

बाकी सभी देवतागण भी इस प्रस्ताव पर सहमत हो गये और ऐसा ही किया गया। मनुष्य के भीतर ही चमत्कारी शक्तियों का भण्डार छुपा दिया गया। इसलिए कहा जाता है कि मानव मन में अद्भुत शक्तियां निहित हैं।

दोस्तों, इस कहानी का सार यह है कि मानव मन असीम उर्जा का कोष है। इंसान जो भी चाहे वह हासिल कर सकता है। मनुष्य के लिए कुछ भी असाध्य नहीं है। लेकिन, बड़े दुःख की बात है उसे स्वयं ही विश्वास नहीं होता कि उसके भीतर इतनी अद्भुत शक्तियां विद्यमान हैं।

अपने अन्दर की शक्तियों को पहचानिए, उन्हें पर्वत, गुफा या समुद्र में मत ढूंढिए अपितु अपने अन्दर खोजिए और उन्हें निखारिये।

ऐसे ही अन्य लेख पढ़ने के लिए क्लिक करें

अगर आपके पास भी Hindi में कोई प्रेरणादायक story या अच्छा सा article है जो कि आप लोगों के साथ सांझा करना चाहते हैं तो आप हमें ईमेल कर सकते हैं और हम आपके द्वारा भेजा हुआ लेख आपके नाम सहित publish करेंगे। हमारी Email Id है – hinglishtalk@gmail.com

और हां, आपको यह प्रेरक प्रसंग कैसा लगा, हमें comments के माध्यम से जरुर बताएं और अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के साथ share करना ना भूलें। धन्यवाद्! 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published.