Bhagwan Mein Vishwas भगवान में विश्वास Faith in God – स्वामी विवेकानंद

Worry ends when FAITH IN GOD begins.

Bhagwan Mein Vishwas भगवान में विश्वास Faith in God

swami vivekananda quotes in hindi motivational story in hindi bhagwan mein vishwas faith in god stoy in hindi

स्वामी विवेकानंद का सम्पूर्ण जीवन एक दीपक के समान है जो हमेशा अपने प्रकाश से इस संसार को जगमगाता रहेगा और उनका जीवन सदा हम लोगों के लिए प्रेरणा (inspiration) का स्त्रोत बना रहेगा।

एक बार स्वामी विवेकानंद जी train से यात्रा कर रहे थे और हमेशा की तरह भगवा कपड़े और पगड़ी पहने हुए थे। Train में यात्रा कर रहे एक अन्य यात्री को उनका यह रूप बहूत ही अजीब लगा और वह स्वामी जी को कुछ अपशब्द कहते हुए बोलने लगा कि तुम सन्यासी बन कर घूमते रहते हो, कुछ कमाते – धमाते क्यों नहीं, तुम लोग बहूत आलसी (lazy) हो। लेकिन स्वामी जी दयावान थे, उन्होंने उसकी तरफ बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया और हमेशा की तरह अपने चेहरे पर तेज लिए मुस्कुराते रहे।

उस समय स्वामी जी को बहूत जोरों की भूख लगी हुई थी क्योंकि उन्होंने सुबह से कुछ खाया – पीया नहीं था। स्वामी जी हमेशा दूसरों के कल्याण के बारे में सोचते थे, अपने खाने का उन्हें ध्यान कहां रहता था।

एक तरफ स्वामी जी भूख से व्याकुल थे वहीं वह दूसरा यात्री उनको अपशब्द और बुरा-भला कहने में कोई कमी नहीं छोड़ रहा था। इसी बीच station आ गया और स्वामी जी और वह यात्री दोनों उतर गए। उस यात्री ने अपने बैग से अपना खाना निकाला और खाने लगा और स्वामी जी से बोला – अगर कुछ कमाते तो तुम भी खा रहे होते। स्वामी जी बिना कुछ बोले चुपचाप थके-हारे एक पेड़ के नीचे बैठ गए और बोले कि मैं अपने ईश्वर पर विश्वास करता हूं जो वह चाहेंगे वही होगा।

Faith in God includes faith in his timing. – Neal A. Maxwell

अचानक ही कहीं से एक आदमी खाना लिए हुए स्वामी जी के पास आया और बोला क्या आप ही स्वामी विवेकानंद हैं और इतना कहकर स्वामी जी के क़दमों में गिर पड़ा और बोला कि मैंने एक सपना देखा था जिसमे खुद भगवान ने मुझसे कहा कि मेरा परम भक्त विवेकानंद भूखा है तुम जल्दी जाओ और उसे भोजन देकर आओ।

बस इतना सुनना था कि वह यात्री जो स्वामी जी की आलोचना कर रहा था और उन्हें अपशब्द बोल रहा था भाग कर आया और स्वामी जी जे क़दमों में गिर पड़ा और बोला – महाराज, मुझे क्षमा कर दीजिये। मुझसे बहूत बड़ी भूल हुई है, मैंने भगवान को देखा नहीं है लेकिन आज जो चमत्कार मैंने देखा उसने भगवान में मेरे विश्वास को बहूत ज्यादा बढ़ा दिया है। स्वामी विवेकानंद जी ने दया भाव से व्यक्ति को उठाया और अपने गले से लगा लिया।

***********************

ऐसी ही अन्य प्रेरणादायक कहानियों के लिए क्लिक करें

अगर आपके पास भी कोई Hindi में अच्छा article या Inspirational कहानी है जो कि आप लोगों के साथ share करना चाहते हैं तो आप हमें email कर सकते हैं Email – hinglishtalk@gmail.com

आप सभी से निवेदन है कि हमें comments के जरिये जरुर बताएं कि आपको स्वामी विवेकानंद जी के जीवन से संबंधित यह story कैसी लगी। और हां, अपने Friends, Relatives के साथ Facebook, Twitter, Instagram आदि पर share करना ना भूलें। धन्यवाद्!

Leave a Reply

Your email address will not be published.